युवा साहित्यकारों को सैलरी देगी त्रिवेंद्र सरकार

साहित्य में रुचि रखने वाले युवाओं के लिए एक अच्छी खबर है. उत्तराखंड में भाषा संस्थान युवाओं को प्रोत्साहित करने के लिए पहली बार मानदेय देने की तैयारी में है. इसके साथ ही लोगों को अब साहित्य के क्षेत्र में बेहतर काम करने के लिए पुरस्कृत भी किया जाएगा.

पिछले कुछ सालों में पहाड़ में साहित्य के क्षेत्र में युवाओं की दिलचस्पी बढ़ी है, जिसको देखते हुए पहली बार भाषा संस्थान इस साल से 10 युवाओं की पुस्तकों को प्रकाशित करेगा. 15 हजार के मानदेय के साथ ही पुस्तकों का व्यय भी हिन्दी अकादमी ही उठाएगा. जिससे युवा साहित्यकार पहाड़ की संस्कृति पर और काम कर सकें. साथ ही उनकी मेहनत का फल भी युवाओं को मिल सके.

पहाड़ की पृष्ठभूमि में साहित्यकारों का दखल हो इसे लेकर सरकार हिन्दी दिवस के दिन ऐसे युवा साहित्यकारों को सम्मानित भी करने जा रही है. साथ ही साहित्यकारोंके साथ विचार विमर्श को लेकर गोष्ठी भी करने जा रही है. गढ़वाली, कुमाऊंनी और जौनसारी संस्कृति को दर्शाती पुस्तकें हिन्दी अकादमी के पुस्तकालय में रखी गई हैं, ताकि साहित्य में रूचि रखने वाले यहां आकर ज्ञान प्राप्त कर सकें.

Pin It