यूएन की सबसे युवा शांतिदूत बनेंगी मलाला यूसुफजई

लखनऊ। 19 वर्षीय मलाला यूसुफजई जो एक नोबेल शांति पुरस्कार विजेता है, इन्होंने एक और उपलब्धि हासिल की है। संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने मलाला को संयुक्त राष्ट्र के शांति दूत के रूप में चुना है। यह विश्व के किसी भी नागरिक को संयुक्त राष्ट्र के महासचिव की ओर से दिया जाने वाला सर्वोच्च सम्मान है। संयुक्त राष्ट्र के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने घोषणा करके सूचित किया है कि मलाला पूरे विश्व में लड़कियों की शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए काम करेंगी।

मलाला यूसुफजई

मलाला यूसुफजई

पाकिस्तान की मूल निवासी मलाला को सोमवार को अधिकारिक तौर पर एक समारोह में यह जिम्मेंदारी सौंपी जाएगी। मलाला ने पाकिस्तान में कुछ वर्ष पहले सभी बच्चों की शिक्षा के लिए अभियान चला रही थीं, तालिबानी आतंकियों को मलाला का यह काम पसन्द नहीं आया। आतंकियों ने मलाला को स्कूल जाते समय बस में घुसकर गोली मार दी थी जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गई थीं। इसके बावजूद मलाला ने अपना काम बन्द नही किया।

गुटेरेस ने कहा कि गंभीर खतरे के बावजूद मलाला ने महिलाओं, लड़कियों और सभी नागरिकों के अधिकारों के लिए अटल प्रतिबद्धता दिखाई जोकि प्रशंसनीय है। मलाला के अलावा संयुक्त राष्ट्र के दूतों में अभिनेता माइकल डगलस और लियानार्दों डिकैप्रियो जैसी बड़ी हस्तियां शामिल हैं जिनमें मलाला सबसे कम उम्र की युवा हैं।

Pin It